Thursday, 20 December 2012

लोक सभा चुनाव 2014 में किसको वोट दें ?


विकल्प क्या है ?  

      हम सभी विगत कई दशकों से देख रहे है कि हम लोगों के बीच से एक व्यक्ति उठता और संघर्ष करता है, फिर कहता है राजनीति बहुत गन्दी है इसे शुद्ध करने की जरुरत है | सभी लोग उसकी बात मानते है और फिर वह राजनैतिक पार्टी का गठन करता है | जो विशुद्ध रूप से जनहित में काम करना चाहता है वह राजनीति के शिखर तक नहीं पहुँचता और जो राजनीति के शिखर तक पहुचते है वह इसी राजनीति में घुसकर स्वयं बहुत गन्दे हो जाते है | जो गन्दे होने से बचते है वह राजनीति में सफल नहीं होते और अपनी पार्टी के साथ विलुप्त हो जाते है | इस तरह हम सभी जानते है चुनाव आयोग में पंजीकृत राजनीतिक दलों की संख्या १४०० (चौदह सौ) से अधिक है | इसमें से अधिकतम कालेधन को सफ़ेदधन में बदलने का कार्य करती हैं |
     यह देश का दुर्भाग्य है कि योग्य प्रतिभायें जो भारत में रह जाती है, डाँक्टर, इन्जीनियर और वैज्ञानिक, वह प्रशासनिक सेवाओं की ओर या राजनीति की और चले जाते है | उसमें से कम ही प्रशासन और राजनीति में सफल होते है | वह अपने पद को पैसा उगाने की मशीन समझते है शेष प्रतिभायें विदेशों में चली जाती है दुनिया के विकसित देश भारतीय प्रतिभाओं की प्रतिभा से चमक रहे है और भारत अंधकार की ओर जा रहा है | देश के घरेलु दुश्मन हमको उल्टा पाठ पढ़ाते हैं और हम मुर्खो की तरह उसे मानाने भी लगते है | अब वह समय आ गया है कि हम इन्हें बता दें कि हम मुर्ख नहीं है, हम उन्हें बता दें कि तुम शासक या प्रशासक नहीं जनता के सेवक हो और सेवक मतलब नौकर होता है और नौकर को सर पर नहीं बैठाया जाता |
      इसलिए एक ऐसे प्लेटफार्म का गठन कर रहा हूँ जहाँ एक समानान्तर सत्ता होगी जिसे “धर्म/ विधि सत्ता” कह सकते है यह संसद की राजनीति की दशा और दिशा का निर्धारण करेगी | यदि कोई नौकर अच्छे से काम नहीं करता है, तो हम उसे डाटते-डपटते है, दुसरा नौकर रख लेते है, न कि उस नौकर का काम स्वयं करने लगते है | तो हम राजनीति में क्यों जायें? यदि हम शासक होने के लिए इस धरती पर आये है, हम इन नौकरों को उसकी औकात बतायें तभी व्यवस्था परिवर्तन का लक्ष्य पूरा होगा और भ्रष्टचार मुक्त समृद्ध भारत निर्माण होगा |
           हम चुनाव आयोग की गिनती में एक और की वृद्धि करना नहीं चाहते | 

लोक सभा चुनाव 2014 में किसको वोट न दें ?

1. कांग्रेस पार्टी के किसी भी प्रत्याशी को वोट न दें।
2. विगत लोक सभा 2009 के किसी भी सदस्य को वोट न दें और न ही उनके परिवार के किसी सदस्य को वोट दें।
3. जो प्रत्याशी आप की लोक सभा क्षेत्र का निवासी न हो और लोक सभा क्षेत्र में निवास न करता हो उसे वोट न दें।
4. जिस प्रत्याशी की शिक्षा-दीक्षा भारत में न हुई हो उसे वोट न दें।
5. स्नातक योगता से कम योग्यता के प्रत्याशी को वोट न दें।
6. जिस प्रत्याशी का अपराधिक रिकार्ड हो उसे वोट न दें।
7. बहुत अधिक धनवान, घमंडी, लोभी और कंजूस व्यक्ति को वोट न दें।
8. जिसने आपके जिले में कोई सामाजिक कार्य न किया हो उसे वोट न दें।
9. कायर और धार्मिक उन्मादी लोगो को वोट न दें।
10. जो राष्ट्रधर्म को सबसे ऊंचा न मानता हो उसे वोट न दें।
11. आयु में जो 35 से 50 वर्ष के मध्य के न हो उन्हें वोट न दें।
12. अविवाहित व्यक्तियों को वोट न दें।
13. जो राष्ट्र को परिवार से ऊंचा न समझते हों उन्हें वोट न दें।
14. जो छुआ-छूत मानता हो उसका समर्थन करता हो उसे वोट न दें।
15. अन्य कोई बात जो आप की नजर में गलत हो ऐसे व्यक्ति को वोट न दें।
( उपरोक्त बाते काफी मंथन के बाद लिखी गयी हैं।  इसमें कुछ अच्छे लोग भुक्त भोगी हो सकते हैं। परन्तु विलक्षण प्रतिभाएं किसी के प्रोत्साहन की मोहताज नहीं होती वे अपना स्थान बना ही लेती हैं जो स्वतः अपवाद रूप में स्वीकार हो जाएँगी, इसलिए उपरोक्त प्रस्ताव को पूरे मन से स्वीकार करें यदि आप मेरी बात से सहमत हैं तो शेयर करें )


Monday, 3 December 2012

विधि सुधार

यह लेख अनुमोदन हेतु प्राधिकृत को  प्रेषित किया गया है। पाठको की असुविधा के लिए खेद है।


  अन्य लेख हेतु ........किलिक  करें

विधि सुधार